चालू खाता (Current Account) क्या होता है और फायदे-नुकसान क्या है? पूरी जानकारी

Ashok Nayak
0

चालू खाता (Current Account) क्या होता है और फायदे-नुकसान क्या है?

चालू खाता (Current Account): हम बैंक में खाता कब खोलते हैं? बैंक खाता खोलने के फॉर्म में पहला विकल्प बचत खाता और चालू खाता होता है। बचत खाता (Saving Account) क्या है? इसके बारे में लगभग सभी जानते हैं, लेकिन चालू खाता (Current Account) क्या है? इसको लेकर लोग थोड़े कंफ्यूज रहते हैं।

यदि आप भी नहीं जानते हैं कि “चालू खाता (Current Account) क्या है और इसे कौन खोल सकता है?” “चालू खाता खोलने के क्या फायदे और नुकसान हैं?” चालू खाता खोलने के लिए किन दस्तावेजों की आवश्यकता होती है? तो चलिए चालू खाते के बारे में विस्तार से जानते हैं।


चालू खाता (Current Account) क्या है?

चालू खाता एक प्रकार का खाता है जो किसी बैंक में खोला जाता है। चालू खाता मुख्य रूप से उन व्यवसायियों द्वारा खोला जाता है जो दिन में कई बार बैंक के साथ लेन-देन करते हैं। इसमें आप बिना कोई चार्ज दिए दिन में कई बार पैसे निकाल और जमा कर सकते हैं।

इसमें जमा राशि पर बैंक आपको ब्याज नहीं देता है। लेकिन मिनिमम बैलेंस रखना अनिवार्य है। इस तरह खाते का उपयोग व्यापारी केवल लेनदेन के लिए करते हैं।

बैंक अपने चालू खाता ग्राहकों को उनके लेनदेन के अनुसार ओवरड्राफ्ट सुविधा प्रदान करता है। यानी चालू खाते में बैलेंस न होने पर भी ग्राहकों द्वारा दिए गए चेक का भुगतान कर दिया जाता है.

चालू खाता कौन खोल सकता है?

हमारी केवाईसी कोई भी व्यक्ति, संस्था, कंपनी दस्तावेजों के साथ चालू खाता खोल सकता है। चालू खाता कौन खोल सकता है इसकी सूची इस प्रकार है।

  • व्यक्तिगत खाता (व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए)
  • एकमात्र स्वामित्व फर्म
  • साझेदारी फर्म
  • निजी या सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी
  • सीमित देयता भागीदारी (एलएलपी) फर्म
  • संस्था, ट्रस्ट, सोसाइटी, एसोसिएशन, क्लब
  • एचयूएफ/निर्दिष्ट संघ

चालू खाता खोलने के लिए किन दस्तावेजों की आवश्यकता होती है?

चालू खाता खोलने के लिए केवाईसी प्रक्रिया को पूरा करना आवश्यक है। जिसके लिए निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होती है।

एकल मालिक द्वारा चालू खाता खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • खाता खोलने वाली फर्म
  • फर्म पंजीकरण प्रमाणपत्र
  • फर्म का पता प्रमाण दस्तावेज – बिजली बिल, पानी बिल, संपत्ति कर प्रमाण पत्र, संपत्ति पंजीकरण प्रति, लाइसेंस।
  • पहचान पत्र – पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट, वोटर आईडी, बैंक पासबुक, आधार कार्ड, केंद्र या राज्य द्वारा जारी पहचान पत्र
  • पता प्रमाण- ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट, विवाह प्रमाण पत्र, नगर निगम विधेयक, क्रेडिट कार्ड का बिल बैंक स्टेटमेंट, टैक्स सर्टिफिकेट, आधार कार्ड, आदि।
  • सिग्नेचर प्रूफ- पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी

चालू खाते की विशेषताएं। (Features of Current Account)

चालू खाते की मुख्य विशेषताएं इस प्रकार हैं।

  • चालू खाते में लेन-देन की कोई सीमा नहीं है।
  • इसमें जमा राशि पर कोई रोक नहीं है।
  • चालू खाते का उपयोग व्यापारिक लेनदेन करने के लिए किया जाता है।
  • चालू खाते में जमा राशि पर ब्याज नहीं मिलता है।
  • चालू खाते में न्यूनतम शेष राशि बनाए रखना आवश्यक है।
  • मिनिमम बैलेंस नहीं रखने पर पेनल्टी लगती है।
  • चालू खाता खोलने के लिए केवाईसी प्रक्रिया को पूरा करना आवश्यक है।
  • चालू खाता बनाए रखने के लिए कोई निश्चित अवधि नहीं है।
  • बैंक अपने ग्राहकों को इस खाते में बचत रखने की सलाह नहीं देता है।

चालू खाते के लाभ (फ़ायदे)।

  • चालू खाता व्यापारियों को लेन-देन करने में सक्षम बनाता है।
  • व्यापारी बिना किसी सीमा के पैसे निकाल और जमा कर सकते हैं।
  • चालू खाता व्यापारियों को चेक, डिमांड ड्राफ्ट या पे ऑर्डर आदि जारी करके सीधे लेनदारों को भुगतान करने में मदद करता है।
  • चालू खाता धारक को ओवरड्राफ्ट (अल्पकालिक उधार) की सुविधा का लाभ उठाने में सक्षम बनाता है।
  • इसमें आपको इंटरनेट बैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग की सुविधा मिलती है।
  • कहीं भी पैसे भेजने और प्राप्त करने की सुविधा उपलब्ध है।
  • साप्ताहिक, मासिक, वार्षिक बैंक विवरण आपको ईमेल द्वारा भेजे जाते हैं।
  • कस्टमर केयर सुविधा उपलब्ध है।
  • चालू खाता देश की औद्योगिक प्रगति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

चालू खाते का नुकसान

चालू खाता रखने के फायदों के साथ-साथ कुछ नुकसान भी हैं जो इस प्रकार हैं।

  • जमा किए गए पैसे पर ब्याज नहीं मिलता है।
  • न्यूनतम राशि रखना अनिवार्य है।
  • न्यूनतम राशि नहीं मिलने पर भारी जुर्माना भरना पड़ता है।
  • खाते के रखरखाव के लिए एक वार्षिक शुल्क है।
  • निर्धारित सीमा से अधिक चेक का उपयोग करने पर शुल्क लगता है।
  • चेक बुक के दुरूपयोग की आशंका है।

सेविंग अकाउंट और करंट अकाउंट में क्या अंतर है?

बचत खाते और चालू खाते में अंतर इस प्रकार है।

  • बचत खाता सामान्य ग्राहकों के लिए है जबकि चालू खाता कंपनियों, फर्मों, संस्थानों, व्यापारियों आदि के लिए है।
  • बचत खाता सामान्य ग्राहकों की बचत राशि जमा करने के लिए डिज़ाइन किया गया है जबकि चालू खाता व्यावसायिक आवश्यकता के अनुसार असीमित लेनदेन के लिए डिज़ाइन किया गया है।
  • बैंक बचत खाते में जमा धन पर ब्याज देता है जबकि चालू खाते में जमा धन पर आपको कोई ब्याज नहीं मिलता है।
  • बचत खाते में प्रति दिन लेन-देन की सीमा है जबकि चालू खाते में लेनदेन की कोई सीमा नहीं है।
  • बचत खाते में निर्धारित संख्या से अधिक लेन-देन करने पर शुल्क लगता है। जबकि चालू खाते में लेन-देन की कोई सीमा नहीं है, इसलिए कोई शुल्क नहीं लगाया जाता है। लेकिन एनईएफटी, आरटीजीएस, आईपीएमएस शुल्क लगाए जाते हैं जो बैंक द्वारा पूर्व-निर्धारित होते हैं।
  • चालू खाते में गैर-निष्पादित ओवरड्राफ्ट की सुविधा उपलब्ध है जबकि बचत खाते में यह सुविधा उपलब्ध नहीं है।
  • बचत खाते का डेबिट कार्ड ATM से पैसे निकालने की लिमिट करेंट अकाउंट के मुकाबले काफी कम होती है.

चालू खाते के प्रकार क्या हैं?

अगर आप किसी बैंक में खाता खोलने जाते हैं तो वहां आपको कई तरह के चालू खाते खोलने का विकल्प मिलता है।

मानक चालू खाता (Standard Current Account)

स्टैंडर्ड चालू खाता एक प्रकार का गैर-ब्याज जमा खाता है जिसमें आपको बैंक द्वारा कई प्रकार की सुविधाएं दी जाती हैं।

जैसे- चेक बुक, डेबिट कार्ड, ओवरड्राफ्ट सुविधाएं, इंटरनेट बैंकिंग, एसएमएस बैंकिंग, फ्री आरटीजीएस और एनईएफटी आदि।

इस प्रकार के चालू खाते को व्यापार के लिए अच्छा माना जाता है।

पैकेज्ड चालू खाता

पैकेज्ड चालू खाते में बैंक अपने ग्राहकों की आवश्यकता के अनुसार सेवाएं प्रदान करता है। इसमें स्टैंडर्ड करंट अकाउंट में दी जाने वाली सुविधाओं के अलावा मेडिकल सपोर्ट, ट्रैवल इंश्योरेंस, रोडसाइड असिस्टेंस आदि की सुविधा मिलती है।

सिंगल कॉलम कैश बुक 

सिंगल कॉलम कैश बुक एक प्रकार का साधारण कैश अकाउंट है जो आपको दैनिक लेनदेन करने की अनुमति देता है। लेकिन इसमें आपको ओवरड्राफ्ट की सुविधा नहीं मिलती है। लेकिन यह आपके बिजनेस कैश बुक का प्रबंधन करता है।

इसलिए इस प्रकार के खाते को व्यापार के लिए बेहतर माना जाता है।

प्रीमियम चालू खाता 

प्रीमियम चालू खाते में, बैंक अपने ग्राहकों को विशेष ऑफ़र और लाभ प्रदान करता है। इस प्रकार का बैंक खाता केवल उन्हीं लोगों द्वारा खोला जाता है, जिनका बैंक के साथ बहुत अधिक लेन-देन होता है।

विदेशी मुद्रा खाता 

विदेशी मुद्रा खाता उन व्यापारियों और कंपनियों द्वारा खोला जाता है जिनके व्यापारिक लेन-देन अन्य देशों के साथ अधिक होते हैं। इस प्रकार के बैंक खाते को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लेनदेन के लिए बेहतर माना जाता है।

चालू खाता कैसे खोलें? (चालू खाता खोलने की प्रक्रिया?)

बैंक में चालू खाता खोलना बहुत आसान है। आपको बस इतना करना है कि केवाईसी से संबंधित जरूरी दस्तावेजों के साथ अपने नजदीकी किसी भी बैंक की शाखा में जाना है। और नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • सबसे पहले अपने नजदीकी बैंक शाखा में जाएं।खाता खोलने का फॉर्म“लेना है
  • बैंक अपने ग्राहकों को खाता खोलने का फॉर्म निःशुल्क प्रदान करता है।
  • इसके बाद सबसे पहले फॉर्म में अकाउंट टाइप करेंट अकाउंट के ऑप्शन पर टिक करना है।
  • अब फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी सही-सही भरनी है। जैसे- नाम, स्थायी पता, जन्म तिथि, पिता का नाम, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी, नामांकित व्यक्ति का नाम, खाता प्रकार, आय विवरण, आदि।
  • सारी जानकारी भरने के बाद आपको अपना पासपोर्ट साइज 2 से 3 जगहों पर चिपकाना है।
  • इसके बाद आपको फॉर्म में सिग्नेचर की जगह अपना सिग्नेचर लगाना होगा।
  • अगर आपको डेबिट कार्ड (एटीएम कार्ड), चेक बुक और इंटरनेट बैंकिंग चाहिए तो फॉर्म में दिए गए विकल्प पर टिक करें।
  • फॉर्म में मांगी गई सभी जानकारी भरने के बाद एक बार फिर से फॉर्म को चेक कर लें।
  • अब इस फॉर्म को अपने केवाईसी दस्तावेजों के साथ बैंक अधिकारी के पास जमा करें।
  • इसके साथ आपको एक मिनिमम बैलेंस चेक या कैश अमाउंट अपने करंट अकाउंट में जमा करना होगा।
  • इसका बैंक अधिकारी आपके फॉर्म और दस्तावेजों की जांच करता है।
  • यदि आपके द्वारा दी गई जानकारी फॉर्म में सही पाई जाती है तो बैंक 24 घंटे में आपका चालू खाता खोल देगा।
  • कई निजी बैंक हाथ से आपका चालू खाता खोलते हैं।
  • खाता खुल जाने के बाद आप बैंक जा सकते हैं और अपना बैंक खाता नंबर और चेक बुक प्राप्त कर सकते हैं।
  • आपका डेबिट कार्ड बैंक द्वारा आपके दिए गए पते पर 15 से 20 दिनों में भेज दिया जाता है।

इस तरह आप आसानी से अपना करंट अकाउंट खोल सकते हैं। अगर आपको खाता फॉर्म भरने में किसी भी प्रकार की समस्या आ रही है तो आप बैंक अधिकारी की मदद ले सकते हैं।


चालू खाते के लिए अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न हिंदी में

मैं चालू खाते में कितना पैसा रख सकता हूँ?

चालू खाते में पैसा रखने की कोई सीमा नहीं है लेकिन न्यूनतम शेष राशि 10000 रुपये तक बनाए रखनी होगी। कई बैंकों में चालू खाते का न्यूनतम शेष 25,000 रुपये तक है।

चालू खाता कौन सा खाता है?

चालू खाते को हम चालू खाते के नाम से भी जानते हैं। व्यवसायी, कंपनियाँ, संस्थाएँ, सहकारी समितियाँ आदि इस खाते का उपयोग करते हैं। जिसमें लेनदेन की कोई सीमा नहीं है। लेकिन इसमें बचत खाते की तरह ब्याज नहीं मिलता है।

निष्कर्ष: करेंट अकाउंट क्या है हिंदी में?

आशा है कि इस लेख को पढ़ने के बाद आपको चालू खाता खोलने में कोई समस्या नहीं होगी। अगर आपको यह लेख “चालू खाता क्या है और इसके क्या फायदे और नुकसान हैं?” अगर आपको अच्छा लगे तो इस जानकारी को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें।

अगर आपका करंट अकाउंट से जुड़ा कोई और सवाल है तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं। हम जल्द ही आपके सवालों का जवाब देने की कोशिश करेंगे।

इस आलेख को पढ़ने के लिए धन्यवाद।

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
Post a Comment (0)
ads code
ads code
ads code
Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !